Tuesday, April 20, 2010

Sometimes all it takes is a smile..

सुबह की आज जो रंगत है वो पहले तो न थी
क्या खबर आज खिरामान सर-ए-गुलज़ार है कौन

शाम गुलज़ार हुई जाती है देखो तो सही
ये जो निकला है लिए मशाल-ए-रुखसार, है कौन

रात महकी हुई आयी है कहीं से पूछो
आज बिखराए हुए  ज़ुल्फ़-ए-तरहदार है कौन

फिर दर-ए-दिल पे देने लगा है कोई दस्तक
जाने फिर दिल-ए-वहशी का तलबगार है कौन

फैज़ अहमद फैज़, 1953